Followers

Thursday, 31 May 2018

यात्रा वृतांत – जब आया बुलावा बाबा तुंगनाथ का, भाग-1


हरिद्वार से अगस्त्यमुनि, वाया रुद्रप्रयाग
यात्रा की तैयारियाँ – पिछले दो सेमेस्टर से टल रहा शैक्षणिक भ्रमण आखिर लगभग तय हो चुका था, लेकिन यह भ्रमण चार धाम यात्रा के बीच सम्पन्न होने जा रहा है, इसका हमें शुरु में भान नहीं था। तिथि व समय में अधिक हेर-फेर सम्भव नहीं था, सो ईश्वर की इच्छा मानकर मई माह की 9-10 तारीख को निश्चित कर वाहन व रास्ते में रुकने की व्यवस्था में जुट जाते हैं। शैक्षणिक भ्रमण का पड़ाव कोटमल्ला,रुद्रप्रयाग स्थित जगतसिंह जंगलीजी का मिश्रित वन था, साथ ही एक तीर्थ स्थल की ट्रैकिंग भी इसमें शुमार थी। अंतिम समय तक तीर्थ स्थल के चयन को लेकर उहापोह चलती रही, लेकिन अंततः तृतीय केदार तुंगनाथ की व्यवस्था हो गई। लगा जैसे बाबा का बुलावा आ गया। इसे ईश्वर की इच्छा मानकर काफिला यात्रा की तैयारियों में लग जाता है।
     विषम परिस्थितियों के बीच यात्रा का संयोग - यात्रा का यह संयोग विषम परिस्थितियों के बीच बन रहा था। चार धाम यात्रा की मारामारी के साथ मौसम का मिजाज भी इस समय काफी विकराल रुप धारण किए था। पूरे भारत में आँधी-तुफान, औलावृष्टि व अंतरिक्षीय विक्षोभ के समाचारों के साथ मीडिया ने एक भयावह माहौल बना रखा था। मीडिया के इस हाईप के बीच अविभावकों की घबराहट स्वाभाविक थी, सो कुछ विद्यार्थी इस शैक्षणिक भ्रमण का हिस्सा बनने से वंचित रह जाते हैं। चूंकि यात्रा की तैयारियां पूरी हो चुकी थीं, पीछे मुड़ने के सारे बिकल्प पीछे छूट चुके थे। बाबा बर्फानी का बुलावा मानकर 25 यात्रियों का काफिला मंजिल की ओर प्रातः भौर में ही मंत्रोचारण के साथ कूच कर जाता है।
राह के पड़ाव – एक-ढेड़ घंटे में काफिला ऋषिकेश-लक्ष्मण झूला को पार कर चुका था। इसके बाद गंगाजी के किनारे सफर आगे बढ़ता है। पहाड़ों की उछल-कूद के बाद मैदान की ओर शांत-गंभीर गति के साथ प्रवाहमान गंगाजी के दर्शन हमेशा ही आँखों को ठंड़क व मन को शांति देते हैं। रास्ते में गंगाजी के किनारे राफ्टिंग कैंप, इनके कतार में सजे तम्बू व आप-पास के एकांत-शांत गाँवों को निहारते हुए यात्रा का आनन्द लेते हुए सफर आगे बढ़ता रहा।
लगभग दो घंटे बाद ब्यासी व शिवपुरी को पार करते हुए बस कौड़ियाला स्टेशन पर जल-पान के लिए रुकती है। यहाँ गंगाजी के किनारे ढावे में सभी फ्रेश होते हैं व चाय-नाश्ता करते हैं। यहाँ की लोकेशन बहुत ही मनभावन और अद्भुत है। ढावे के नीचे ढलानदार राह पर पत्थरों से टकराकर कलकल निनाद करती गंगाजी की वेगवती धार दर्शनीय रहती है।
इसकी पृष्ठभूमि में खड़ा त्रिशंकू आकार का पर्वत ध्यानस्थ किन्हीं मौन तपस्वी सा प्रतीत होता है। यहीं अपने पुराने विद्यार्थियों व शिक्षकों के साथ कुछ यादगार क्लिप्स के साथ सफर आगे बढ़ता है।
पहाड़ की गोद में रोमाँचक सफर – यहीं से आगे पहाड़ों की चढाई शुरु होती है और सफर का रोमाँच भी। गंगाजी बीच-बीच में पहाड़ों के नीचे गहरी खाईयों में कहीं बिलुप्त हो जाती हैं, तो कहीं प्रकट। इसी लुकाछुपी के बीच पहाड़ की ऊँचाईयों में घुमावदार बलखाती सड़क के बीच सफर जारी रहता है। रास्ते में खिड़की से बाहर निहारने पर ऊपर और नीचे क्षितिज की ओर अंतहीन पर्वत श्रृंखलाओं का नजारा एक अलग ही अनुभव रहता है। पहाड़ की गोद में व चोटियों पर बसे सुदूर गाँव व घर सदा ही मन में जिज्ञासा व रोमाँच के भाव जगाते हैं। बिना किसी मोटर सड़क के किस तरह से लोग अपना सामान ले जाते होंगे। यहाँ निवास करना कितना रोचक, रोमाँचक व दुश्वारियों से भरा रहता होगा आदि।

एक ढेड़ घंटे में हम देवप्रयाग संगम से होकर गुजर रहे थे। ज्ञातव्य हो कि यहाँ पर भगीरथी और अलकनंदा नदियों का संगम है, जहाँ से गंगाजी का प्रादुर्भाव माना जाता है। ऋषिकेश से 70 किमी दूर व 1500 फीट की ऊँचाई पर स्थित यह संगम पंचप्रयागों में एक है। यहाँ द्रविड़ शैली में बना रघुनाथजी का  पुरातन मंदिर है। पौराणिक मान्यता है कि भगवान राम लंका युद्ध में रावण बध के बाद ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति के लिए लक्ष्मण एवं सीता सहित यहाँ पधारे थे व इस संगम स्थल पर प्रायश्चित तप किए थे। संगम स्थल का सौंदर्य स्वयं में अद्भुत एवं बेजोड़ है। समय निकालकर यहाँ आचमन, स्नान व ध्यान का आनन्द लिया जा सकता है।
देवप्रयाग को पार करते हुए सफर कई छोटे स्टेशनों को पार करता हुआ कीर्तिनगर से होकर गुजरता है, जहाँ के सीढ़ीनुमा खेत, इनमें लहलहाती हरी-भरी फसल, सब्जियाँ व नर्सरी की क्यारियाँ सदा ही सफर का खुशनुमा अहसास रहती हैं। 
इसके आगे कुछ ही देर में श्रीनगर शहर आता है, जो अलकनंदा नदी के किनारे लगभग 1800 फीट की ऊँचाई पर बसा है। ऋषिकेश से लगभग 100 किमी दूरी पर स्थित श्रीनगर शहर को आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित श्रीयंत्र पर बसा शहर माना जाता है।
यहीं पर उच्च शिक्षा का जाना-माना केंद्र गढ़वाल विश्वविद्यालय है। आगे बढ़ते हुए पुल के उस पार विश्वविद्यालय के चौरास कैंपस के दूरदर्शन किए जा सकते हैं। श्रीनगर को पार करते हुए लगभग दो घंटे के अंतराल में हम रुद्रप्रयाग पहुंचते हैं। रास्ते में श्रीनगर में बन रही जल-प्रयोजना के कारण बनी झील एक अलग ही नजारा पेश करती है। इसी के बीच में धारी देवी का सिद्ध मंदिर मार्ग में आता है। इसी राह को पार करते हुए अगला प्रमुख पड़ाव रुद्रप्रयाग आता है।
रुद्रप्रयाग, बद्रीनाथ और केदारनाथ से आ रही क्रमशः अलकनंदा और मंदाकिनी नदियों का पावन संगम स्थल है। लगभग 3000 फीट की ऊँचाई पर स्थित रुद्रप्रयाग के वारे में मान्यता है कि यहाँ पर नारद मुनि को भगवान शिव ने उनकी आराधना से प्रसन्न होकर रुद्र रुप में दर्शन दिए थे। रुद्रप्रयाग श्रीनगर से 34 किमी और केदारनाथ धाम से 86 किमी की दूरी पर स्थित है। 
रुद्रप्रयाग से अलकनंदा को पार कर मंदाकिनी नदी के किनारे सफर केदारनाथ मार्ग पर आगे बढ़ता है। लगभग एक घंटे बाद अगस्त्यमुनि कस्वा आता है, जो रुद्रप्रयाग से 18 किमी की दूरी पर है। मान्यता है कि 3300 मीटर ऊँचाई पर स्थित इस स्थल पर अगस्त्यमुनि ने घोर तप किया था और शहर में नागकोट नामक स्थान के पास महर्षि ने सूर्य भगवान तथा श्रीविद्या की उपासना की थी।

यहां एक स्थानीय ढावे पर दोपहर के लंच के लिए उतरते हैं। बस में बैठे-बैठे शरीर की जकड़न बाहर उतरने पर महसूस हुई। थोड़ा चहलकदमी व भोजन के बाद काफिला रिचार्ज होकर अगले पड़ाव की ओर कूच करता है, जो था तुंगनाथ का बेस कैंप चोपता, जिसे उत्तराखण्ड के मिनी स्विटजरलैंड की संज्ञा दी गयी है। रास्ते में मंदाकिनी नदी के निम्न जल स्तर को देख थोड़ा आश्चर्य अवश्य हुआ। शायद इस बार पहाड़ों में बर्फवारी कम हुई है, इसका परिणाम रहा हो। अगस्तमुनि में ही ठीक सड़क के किनारे प्राकृतिक जल का स्रोत मिला। बढ़ती गर्मी के कारण सूखते जल स्रातों के बीच इसके निर्बाध प्रवाह को देखकर सुखद आश्चर्य हुआ। (जारी...कृप्या, शेष अगली ब्लॉग पोस्ट में देखें)

No comments:

Post a Comment