Saturday, 28 November 2015

यात्रा वृतांत - हमारी कोलकाता यात्रा - भाग1

भावों के सागर में एक डुबकी


संचार की अवधारणा को लेकर आयोजित एक बौद्धिक संगोष्ठी (कॉन्फ्रेंस) में जाने का संयोग बना, सो अपने दो युवा सहयोगी, सहशिक्षकों के साथ इसमें भागीदारी के लिए कोलकाता चल पड़े। अंतिम समय तक सीट रिजर्व नहीं थी, लेकिन अंतिम कुछ घंटों में रिजर्वेशन कन्फर्म होने के साथ लगा, जैसे दैवी कृपा साथ में है। रात ठीक 1030 बजे दून एक्सप्रेस हरिद्वार से कोलकाता की ओर चल पडी। 

यात्रा की भाव भूमिका -
भावों की अतल गहराई लिए हम इस यात्रा पर जा रहे थे। यही वह वंग भूमि है जिसने हर तरह की विभूतियों से इस भारतभूमि को धन्य किया है और विश्व को अजस्र अनुदान देकर मानवता को कृतार्थ किया है। साहित्य हो या कला, फिल्म हो या स्वतंत्रता संग्राम - हर क्षेत्र में इसके विशिष्ट योगदान रहे हैं, और सर्वोपरि धर्म-अध्यात्म क्षेत्र में तो इसका कोई सानी नहीं। श्रीरामकृष्ण परमहंस-स्वामी विवेकानंद, परमहंस योगानंद, स्वामी प्रण्वानन्द, कुलदानंद व्रह्मचारी, लाहिड़ी महाशय, स्वामी विशुद्धानंद, महायोगी श्री अरविंद, सुभाषचंद्र बोस, रविंद्रनाथ टैगोर, विपिन चंद्र पाल,....इस वीर प्रसुता दिव्य भूमि, इस तीर्थ क्षेत्र को देखने के गहरे भाव के साथ यात्रा शुरु हो चुकी थी। कॉन्फ्रेंस एक वहाना थी, लेकिन इसमें भी हम एक विद्यार्थी के ज्ञान पिपासु भाव के साथ अपने विषय क्षेत्र के नए आयामों को जानने व एक्सप्लोअर करने के भाव के साथ जा रहे थे।

दून एक्सप्रेस मेें बीते तप-योगमय लम्हे
सीट अपर बर्थ में होने के कारण हिलने-ढुलने की, डिग्री ऑफ फ्रीडम, सीमित रही, ऊपर से दून एक्सप्रेस का आदिम ढांचा इसे ओर सीमित किए रहा। काफी कुछ एक कालकोठरी में वंद होने का अहसास होता रहा। अपर बर्थ अपनी ऊँचाई के साथ न्याय नहीं कर पा रहा था। लेट कर सफर के अलावा कोई विकल्प नहीं था। रात लेटे लेटे ही बीती। अगला दिन भी लगभग ऐसे ही बीता। मोवाइल में नेटवर्क की प्रोबलम और कुछ टाटा डोकोमो की कृपा से बाहरी संसार से संपर्क कट चुका था, अपने साथियों के साथ खाते पीते, चर्चा करते हुए सफर में आगे बढ़ते रहे। शाम के 7 बजे हम बनारस पहुंच चुके थे। वहां ट्रेन काफी देर रूकी। यहां की वाइ-फाई सुविधा का लाभ लेते हुए थोडी देर के लिए अपने खोए संसार से कुछ पल के लिए जुड़ गए।
  
अगले दिन कोलकाता से पहले बर्धमान तक कुछ सवारियां उतर चुकी थी, सो साइड लोअर बर्थ पर सीट मिलने से खिड़की से वंगाल के ग्रामीण आंचल को देखने का मौका मिला। इस रास्ते से दिन के उजाले में यह पहला सफर था, सो बाहर के दिलकश नजारों को निहारते रहे और यथा संभव कैमरे में केप्चर करते रहे। हर गांव, हर कस्वे, हर घर के बाहर तलाब-तलैया और नारियल-ताड़ी के पेड़ हमारे लिए एक रोचक दृश्य़ थे। खेतो में धान कट चुकी थी। कटी धान की ढेरियां कहीं कहीं दिख रही थी। आगे कोलकाता की ओर बढ़ते गए तो धान के हरे भरे खेत लहलहाते मिले। पता चला की यहां बारहों महीने खेत में चाबल की खेती होती है।  

ट्रेन में मच्छी-भात क्लचर से परिचय -
अब तक हमारा परिचय कोलकाता में किसी कंपनी में पिछले तीन दशक से काम कर रहे सज्जन जनार्दन साहब से हो चुका था। इनसे अपनी जिज्ञासाओं का समाधान करते हुए, अपनी जानकारी में बृद्धि करते रहे। पता चला मच्छी-भात यहां लोगों का प्रिय डिश है। मच्छली को शाकाहार माना जाता है, यहां तक कि किन्हीं पूजा में तक इनका प्रयोग होता है। हमारी जिज्ञासा गहरी हो चुकी थी कि मच्छली शाकाहार कैसे हो सकती है। समीपतम जबाब था कि एक मच्छली घास पत्ते भर खाती है, सो उसे शाकाहारी मच्छली माना जाता है, और उसे खाने में कोई परहेज नहीं रहता। खैर हमें इतना समझ आ रहा था कि देश काल परिस्थिति के अनुरुप, स्थानीय मजबूरियों के अनरुप भोजन की आदतें तय होती हैं। जैसे बर्फीले दूरस्थ ठंडे इलाकों में जहां शाक-अन्न दुर्लभ होते हैं, वहां मांस व देसी दारु का सेवन प्रायः लोक प्रचलन रहता है।

हावड़ा स्टेशन पर यागार पल -
 
ट्रेन अढाई घंटे लेट थी, सो सुबह 7 की बजाए हम दिन के 0930 बजे कोलकाता के हाबडा स्टेशन में पहुंचे। यहीं रेल्वे ट्रेक का अंतिम छोर है। सो आश्चर्य नहीं कि सीध स्टेशन के अंदर से ही वाहनों को बाहर निकलते देखा। लेकिन हमारे ठहरने की व्यवस्था स्थानीय परिजन के घर पर हो चुकी थी, सो उनके आते ही साथ चल दिए।

स्टेशन में अंदर चहल-पहल और भीड़ थी। बंगला और अंग्रेजी में लिखे बोर्ड, होर्डिंग और विज्ञापन देखकर लग रहा था कि हम वंग भूमि में पदार्पण कर चुके हैं। स्टेशन से वाहर आते ही इसके भवन के अंग्रेजकालीन भव्य आर्किटेक्ट को निहारते रहे। सच में अंग्रेजों के हम कुछ मामलों में कितने ऋणी हैं। भवन के रंग से मैच करती पीले रंग की टेक्सियां यहां की पुरातन विरासत की जीवंतता का पहला अहासस दे रही थी। हालांकि पता चला कि अब इनके समानान्तर ओला और उबर जैसी टेक्सियों का चलन भी बढ़ रहा है, जो पर्यटकों की बढ़ती संख्या व सुविधा के अनुरुप उचित भी है। 

पुरातन विरासत को समेटे कोलकाता के दर्शन -
स्टेशन से वाहर निकलते ही हावड़ा पुल के दर्शन हुए। विशालकाय पुल, अपने विचित्र एवं अद्वितीय रचना के कारण यात्रियों के मन में एक अलग ही छाप छोड़ जाता है। पुल के नीचे से गुजरती, अपनी मंजिल (सागर) की ओर बढ़ती अलमस्त हुगली नदी (गंगा जी मुख्य धारा) अपने विराट वैभव के साथ श्रद्धानत कर देती है। पुल को पार करते ही सीधा बड़ा बाजार आता है, जिसे, कोलकाता का दिल कहा जाता है, रविवार होने के नाते आज भीड़ न के बरावर थी। अन्यथा यहाँ सड़क पर तिल धरने की जगह नहीं रहती और यहां का जाम तो खासा चर्चा का विषय है। यहां की खुली सड़कों को देखकर नहीं लग रहा था कि हम किसी मैट्रो शहर में हैं और पर से प्राचीन कई मंजिले देसी भवन, जिनका इतिहास सौ से दो सौ वर्ष पुराना तो रहा ही होगा। 

इतिहास से रुबरु होने के बहाने हम शहर की एक लोकप्रिय चाय की दुकान पर रुके। यहां अभी भी चाय बनाने औऱ पिलाने की सौ साल पुरानी परम्परा निभायी जा रही है अंगारों की अंगीठी-चूल्हे पर पानी गर्म हो रहा था, दूसरे वर्तन में चाय मसाला तैयार हो रहा था। तीसरे वर्तन में ग्राहकों के हिसाब से ताजा चाय तैयार की जा रही थी। और फंटाई के साथ इसे कुल्हड़ में परोसा जाता है। पता चला कि दुकान सिर्फ रात को बारह से अढाई बजे तक ही बंद होती है, बाकि के 20-22 घंटे यहां चाय बनती रहती है। परम्पराओं से जुड़े शहर के तार दिल को छूने बाले लगे, जिनके बाकि दिगदर्शन अभी होने शेष थे।

पुरातन विरासत पर आधुनिकता की चादर ओढ़त शहर -
बड़ा बाजार से बाहर निकलते ही रास्ते में सडक पर दौड़ती ट्राम दिखी, जिसकी शायद बदलते जमाने के साथ मैट्रो युग में कोई प्रासांगिकता नहीं है, लेकिन शहर का परम्परा के निर्वाह से प्रेम यथावत जारी दिखा। कोलकाता की गली मुहल्लों के बारे में जो बातें उपन्यासों में पड़े थे, वे हुबहू बैसे ही यहां जीवंत दिख रह। आधुनिकता की दौड़ में अभी भी शहर बहुत कुछ अपनी विरासत को संजोए हुए है। अंग्रेजों के समय में सड़कों में बिछी जल पाइपें व इनसे फूटते पानी के फब्बारे सड़कों का साफ कर रहे थे। अब तक हम बाहर आ चुके थे, आधुनिकता को गले लगाते कोलकाता के दर्शन हो रहे थे। हम वीआईपी सड़क से गुजर रहे थे। फलाई ओबर पता तला शहर की लाइफ लाईन है, जहां जाम से मुक्त रास्ते पर गाड़ी को सरपट दौड़ा सकते हैं, नहीं तो कोलकाता का जाम जिंदगी की गति को ठहराए रहता है। रास्ते में टाबर से होते हुए आगे बढ़े। राह में परिजन के मिशन से जुड़ने की बातें, आचार्यश्री से जुड़े भाव विभोर करते संस्मरण सुनते रहे और यात्रा से जुड़े दैवीय प्रवाह को अनुभव करते रहे। रास्ते में प्रदूषण का बढ़ता स्तर थोड़ा परेशान जरुरत करता रहा। डस्ट व धुंएं की हल्की चादर ओढे शहर पर आधुनिकता का दंश, बढ़ते बाहनों की मार साफ झलक रही थी।
रास्ते में पानी की नहर मिली, पानी काफी गंदा दिख रहा था, लेकिन नोएडा-दिल्ली की सडांध-बदबू से मुक्त दिखा। पता चला यह अंग्रेजों द्वारा निर्मित गंग नहर का जल है, जो पूरे कोलकाता को पार करते हुए आगे बांगला देश तक वहता है। पता चला कि ऐसे जल में मछलियाँ खूव पलती हैं औऱ मछली यहाँ का प्रमुख आहार हैं। रास्ते में ठेले पर हर वेरायटी की मछलियों को देखने का मौका मिला। कुछ इंच से लेकर कई हाथ लम्बी। कुछ तो वर्तन के पानी में तैर रही थी। कुछ मूँछ वाली तो कुछ कांटे व टांगों बाली। यहाँ का मछली प्रेम जिसका जिक्र हम ट्रेन में सुन चुके थे, यहां की मच्छली मार्केट को देखकर प्रत्यक्ष दिख रहा था।

दक्षिणेश्वर की एक शाम -
क्षेत्रीय परिजन के घर में पारिवारिक माहौल, आत्मीय व्यवहार के बीच हम रिलेक्स हुए। चाय के साथ चार बातें कर नहा धोकर तैयार हो गए। भोजन के बाद कुछ विश्राम किए और आज पूरी शाम हमारे पास थी, सो इसका सदुपयोग करते हुए दक्षिणेश्वर का प्रोग्राम बनाए। चलते-चलते शाम हो चुकी थी, सो दक्षिणेश्वर पहुंचते-पहुंचते अंधेरा छा चुका था। गाड़ी के पार्किंग स्थल से ही ताड़ के झुरमुटों के पार रोशनी में जममगा रह मंदिर का आलौकिक दृश्य मंत्रमुग्ध कर रहा था। आज उस तीर्थ स्थल के दर्शन का दुर्लभ संयोग बन रहा था, जो रामकृष्ण परमहंस की लीला भूमि – तपःस्थली रही है। हाँ मां काली से ठाकुर का सीधा संवाद होता था। यहीं नरेंद्र की माँ से भक्ति-शक्ति और विवेक-वैराग्य का संवाद हुआ था। इसी तीर्थ की पंचवटी में ठाकुर साधना करते थे और युवा शिष्यों को रात के एकांत में साधना करने के लिए प्रेरित करते थे। इसी तपःस्थली में ठाकुर ने विभिन्न धर्मों के आध्यात्मिक सत्य को जांच-परख कर सभी धर्मों के आध्यात्मिक सत्य को सिद्ध किया था।
जैसे ही हम आगे बढ़ते हैं, भक्तों की अनुशासित भीड़, मंदिर के भव्य शिल्प, द्वादश ज्योतिर्लिंगों के मंदिर और सामने रोशनीं में जगमगाता दक्षिणेश्वर काली मंदिर – स मिलाकर एक जीवंत-जाग्रथ तीर्थ की अनुभूति करा रहे थे। दर्शन के लिए लाइन काफी लंबी थी, लेकिन मंडप से मां के दर्शन के साथ हम कृतार्थ हुए और ठाकुर (रामकृष्ण) के कक्ष में माथा टेककर बापिस चल दिए। समय अभाव के कारण गंगा स्नान व बाकि कार्य़क्रम अगली यात्रा के लिए छोड़कर, अगले पड़ाव की ओऱ बढ़ चले।
गायत्री साधकों के बीच -
यह क्षेत्रीय गायत्री परिजनों की रविवारीय गोष्ठी में भागीदारी थी। यहां हर रविवार को सामूहिक सतसंग व पंचकोशीय साधना का सत्र चलता है। स्थानीय परिजनों द्वारा अपने नैष्ठिक प्रयास से चलाए जा रहे सत्साहित्य प्रसार के सुंदर प्रयास को नजदीक से देखा। आचार्य़श्री द्वारा प्रवर्तित बानप्रस्थ परम्परा यहां जीवंत दिखी। आचार्यश्री का मत था कि गृहस्थ को नौकरी-पेशा व अपने पारिवारिक दायित्व से मुक्त होने के बाद अपना समय आत्म-साधना व लोक सेवा में नियोजित करना चाहिए। अपने ज्ञान व अनुभव से समाज में सत्प्रवृति संबर्धन व दुष्प्रवृति उन्मूलन में अपनी सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए। यही आत्मसंतुष्टि, लोकसम्मान और दैवी अनुग्रह का राजमार्ग है। अपने परिवार, स्वार्थ और अहंकार तक सीमित मोह-लोभ ग्रस्त रिटायर्ड जीवन, मानवीय गरिमा को व्यक्त नहीं कर सकता।  

केंद्र के परिव्राजक के साधना-स्वाध्याय व सेवा मय जीवन और सत्साहित्य को घर-घर तक पहुंचाने के लिए चल रहे प्रसाय सर्वथा प्रेरक व अनुकरणीय लगे। आधे दाम में अब तक हजारों प्रेरक पुस्तकों को बांट चुके हैं। हर रविवार को यहाँ सामूहिक सतसंग व पंचकोषीय साधना का सत्र चलता है। युवा परिव्राजक इसमें सराहनीय योगदान दे रहे हैं। यदि ऐसे प्रयोग हर प्रज्ञापीठ-शक्तिपीठों व देवालयों में चल पड़ें तो हर देवस्थल जीवंत जाग्रत तीर्थ के रुप में अपने क्षेत्र को संस्कारित करने में समर्थ भूमिका निभा सके। क्षेत्रीय परिजनों के संस्मरणों को देखकर साफ झलकहा था कि गुरुस्ता का आश्वासन, कि तुम हमारा काम करो, हम तुम्हारा काम करेंगे, आज भी कसौटी पर खरा उतर रहा है और परिजन पूरी निष्ठा के साथ अपना अकिंचन सा ही सही, कितु भाव भरा नैष्ठिक योगदान दे रहे हैं।....जारी, (शेष अगले भाग में)

4 comments:

  1. सर! बहुत ही बढ़िया यात्रावृत्तांत, लगा कि जैसे मैं भी उस यात्रा में हूँ... मछली को शाकाहारी कहने का तथ्य उनकी सोच के अलग पहलु को दर्शाता सा लगा मुझे...साथ ही ये जानकर भी अच्छा लगा कि कोलकाता अभी भी पुरातन विरासत को समेटे हुए है।

    मीनाक्षी उनियाल (Timsi)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मीनाक्षी भावयात्रा के लिए। कोलकाता निसन्देह रुप में एक अद्भुत महानगर है।

      Delete
  2. Sir Apka Lekh aur Yarra ka vivran Bahut hi dischasp hai. Maza aa gaya padh ke Varna aaj k samay me Yatra karna angrezi me suffer karane k barabar hai. Lekin apke Lekh se bachapan ki yaatraaon ki yaadein taaza ho gayi. Shukriya

    ReplyDelete
  3. Dhanyabad Dr Jitendra Singh.

    ReplyDelete