Tuesday, 29 April 2014

अपना सच जीने की तैयारी

पहचानो अपने मौलिक स्वप्न-सच की गहराई



कहाँ भागते हो इस जग से,
                              कहाँ फिरते हो दूर देश एकांत वन प्रांतर में,
कहीँ ऐसा तो नहीं, भाग रहे हो तुम,
                              खुद से, बोए बबूल वन, अपने अंतर के ।1।

यह कैसी दौड़ अँधी, नहीं पग के ढग स्वर में,
                              यह कैसी खुमारी, नहीं होश आगत कल के,
कहीं ऐसा तो नहीं, भाग रहे हो तुम,
                              खुद से, खोए-उलझे तार अपने मन के ।2।

दुनियाँ को दिशा देने चले थे बन प्रहरि,
                             यह कहाँ अटक गए खड़े दिग्भ्रमित चाल ठहरी,
कहीं ऐसा तो नहीं, भाग रहे हो तुम,
                         खुद से, जी रहे हो सपने दूसरों से लिए उधारी ।3।

 करो तुम सामना अब हर सच का वीर बनकर,
                             यही तो असल रसायन बल का, द्न्द मुक्ति का,
संग गर ईमान तो, परवाह न करना उस जग की,
           जो न हो खुद कायम सत्य पर, गुलाम अपने मन का।4।

करना संयम साधना तुम बन शक्ति साधक,
                            जग का उपकार करना बन शिव आराधक।
वज्र सा कठोर बन पुष्प सा कोमल,
                          करना शोध उस सत्य की, जो सदा नित्य-शिव-सुंदर ।5।

पहचानो वीर! मौलिक सच अब अपना,
                               सुनो पुकार हरपल अंतर्मन की,
समझो अपने मौलिक स्वप्न-सच की गहराई,

                               दिखाओ खुद को गढ़ने की होशियारी ।6।

No comments:

Post a Comment